जानें क्या है हमारे जीवन का हिस्सा बन चुके कम्प्यूटर का इतिहास

जानें क्या है हमारे जीवन का हिस्सा बन चुके कम्प्यूटर का इतिहास

Day-to-day

जानें क्या है हमारे जीवन का हिस्सा बन चुके कम्प्यूटर का इतिहास आज कम्प्यूटर हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है, आज हम कम्प्यूटर पर इंटरनेट चलाते हैं, गेम खेलते हैं, गाने सुनते हैं और बहुत से ऑफ़िस संबंधित कार्य करते हैं। आज कम्प्यूटर का प्रयोग हम हर क्षेत्र में करते हैं, फिर वो चाहे शिक्षा का क्षेत्र हो, फिल्म जगत मीडिया या ऑफ़िस, कम्प्यूटर के बिना हर क्षेत्र अधूरा है। कम्प्यूटर में इंटरनेट की सहायता से आज हम घर बैठे – बैठे किसी भी बारे में जानकारी हासिल कर सकते है, किसी भी देश में बैठे अपने मित्रों से इंटरनेट की सहायता से हम आसानी से उनसे बात कर सकते हैं।  

लेकिन क्या आप जानते हैं कम्प्यूटर की शुरूआत कब कहां और कैसे हुई, क्या सही में कम्प्यूटर का आविष्कार इन्ही सब कामों के लिए किया गया था। आइये इस बारे में जानते है :-

मानव के लिए गणना करना वाकई में बहुत मुश्किल रहा है। मनुष्य एक सीमित स्तर तक ही गणना कर सकता है, बहुत ज्यादा बड़ी गणना के लिए उसे हमेशा से किसी मशीन पर ही निर्भर रहना पड़ता है। इसी गणना के लिए कम्प्यूटर का निर्माण किया गया।

अबेकस

अबेकस पहला ऐसा कम्प्यूटर था, जिसके द्वारा गणना की जा सकती थी। अबेकस को लगभग 3000 वर्ष पूर्व चीन के वैज्ञानिकों के द्वारा किया गया था। एक आयातकार फ्रेम में लोहे की छड़ों में लकड़ी की गोलियां लगी रहती थीं, जिनको ऊपर नीचे करने से गणना की जा सकती थी, यानि के बिना बिजली के चलने वाला पहला कम्प्यूटर जो पूरी तरह से काम करने के लिए हांथो पर निर्भर था।

पास्कलाइन

अबेकस के बाद निर्माण हुआ पास्कलाइन का। इसे गणित के विशेषज्ञ ब्लेज़ पास्कल ने बनाया था, इसे 1642 में बनाया गया था। यह अबेकस से ज्याद जल्दी गणना कर सकता था।

डिफरेंज इंजन

      

डिफरेंज इंजन का निर्माण सर चार्ल्स बैबेज ने किया था। जो सटीक तरीकों से गणना कर सकता था इसे सन 1822 में बनाया गया था। चार्ल्स बैबेज को ही कम्प्यूटर का जनक कहा जाता है, इन्होंने 19वीं सदी में Analytical Engine की रचना की, जिसके आधार पर आज के कम्प्यूटर भी काम कर रहे हैं और इसी तरह समय के साथ कम्प्यूटर में और भी विकास होता गया जैसे :-

 1940 से 1956 का समय

इस समय के कम्प्यूटर में इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल को नियंत्रित तथा प्रसारित करने के लिए वैक्यूम ट्यूब Vaccum Tube का उपयोग किया जाता था उस समय में उपयोग किये जाने वाले वैक्यूम ट्यूब Vaccum Tube का आकार बहुत बड़ा होता था जो कि काफी जगह भी घेरते थे और यह गर्मी भी काफी उत्पन्न करते थे और इनका टूटने का खतरा भी ज्यादा हुआ करता था

1956 से 1963 का समय

इस समय में आविष्कार हुआ ट्रांसिस्टर का, ये ट्रांसिस्टर वैक्यूम ट्यूब Vaccum Tube की अपेक्षा अधिक सक्षम थे और इनका आकर भी काफी छोटा था इसकी क्षमता भी अधिक थी जिस से कम्प्यूटर ज्यादा तेजी से काम करता था। अब कम्प्यूटर का आकर भी छोटा हो गया था और वह ज्यादा  तेजी से काम भी करने लगा था।

1963 से 1971 का समय

इस समय में कम्प्यूटर में इंटीग्रेटेड सर्किट का प्रयोग किया जाने लगा जो ट्रांसिस्टर से भी ज्यादा आकार में छोटा था। इस समय के कम्प्यूटर की क्षमता और अधिक हो गयी थी। अब वह काफी तेजी से भी काम करने लगे थे, क्योंकि अब इसमें सिलिकॉन से बनी एक छोटी सी चिप का प्रयोग किया जाने लगा था। उसकी वजह से कम्प्यूटर का आकर और भी छोटा हो गया था।

1971 से आज तक

इस समय में निर्माण हुआ माइक्रोप्रोसेसर का Microprocessor का आज हम सभी ज्यादातर इसी कम्प्यूटर का प्रयोग कर रहे हैं, जिसमे लैपटॉप भी शामिल है। माइक्रोप्रोसेसर Microprocessor का प्रयोग करने से कम्प्यूटर का आकर बहुत छोटा हो गया अब हम इसे अपने साथ कहीं भी ले जा सकते हैं।

इस प्रकार के कम्प्यूटर में VSLI की मदद से हज़ारों ट्रांसिस्टर को एक साथ जोड़ा जा सकता है और इसकी गति को ज्यादा तेज भी किया जा सकता है। इस तरह के कम्प्यूटर का प्रयोग अब सभी पर्सनल कम्प्यूटर की तरह भी करने लगे हैं। कम्प्यूटर के क्षेत्र में सबसे बड़ी क्रांति इसी दौर को माना जाता है।

वर्तमान समय के कम्प्यूटर

1971 से आज तक कंप्यूटर के क्षेत्र में कई बदलाव और विकास हुए है। आज के समय में कंप्यूटर का रूप इतना छोटा हो गया है की हम उसे अपने साथ कहीं भी ले जा सकते हैं तथा उस पर कही भी बैठ कर काम कर सकते हैं। लैपटॉप में भी आज के समय में कई बदलाव आये हैं। लैपटॉप का आकर समय के साथ और भी छोटा हो गया है और उसके काम करने की क्षमता में और भी तेजी आयी है। आज के समय में टच स्क्रीन लैपटॉप का भी निर्माण हो गया है। Apple, IBM, HP, जैसी बड़ी कंपनियां भी कम्प्यूटर के क्षेत्र में एक बड़ी क्रांति के रूप में सामने आई है।

भविष्य में कम्प्यूटर

भविष्य में कम्प्यूटर के क्षेत्र में और भी विकास के ऊपर कार्य किये जा रहे है। आने वाले समय में कम्प्यूटर की कार्य क्षमता अभी के मुकाबले और भी बेहतर होगी। साथ ही वह लोगों के काम को और ज्यादा आसानी से तथा अधिक शीघ्रता से करने में सक्षम होंगे।

 

यह भी पढ़े :- जानिए क्या है साइकिल का इतिहास, किसने, कैसे और कब किया अविष्कार

Tags: , , ,
Written by Ankita Sinha

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by Techify. Copyright © 2018 hashtaglearn